Home / breaking news
मानस रंजन चौधरी के कारण विरोधियों के निशाने पर रहेगी उड़ीसा में कांग्रेस
Image

मानस रंजन चौधरी के कारण विरोधियों के निशाने पर रहेगी उड़ीसा में कांग्रेस
प्रधानमंत्री मोदी के गृह प्रदेश से चुनावी बिगुल फुकने वाली कांग्रेस उड़ीसा के भुवनेश्वर में अपने ही दल के नेताओं के कारण विपक्ष के निशाने पर आ रही है और आने वाले लोकसभा चुनाव में पूरे उड़ीसा में विपक्षी दल इसे मुद्दा बनाने से नहीं चूकेगे
इस लोकसभा चुनाव में दागियों से परहेज करने वाली कांग्रेस पार्टी उड़ीसा के भुवनेश्वर मध्यम और कटक चोद्वार विधानसभा क्षेत्र 91 के लिए स्क्रीनिंग कमिटी में मानस रंजन चौधरी का भेजा गया नाम जैसे ही यह बात कांग्रेसियों को पता चली कांग्रेसमें भूचाल प्रारंभ हो गया कांग्रेसियों का कहना है कि इस सीट पर अंतरराष्ट्रीय घोटालेबाज को टिकट देने की तैयारी में जुटा है
एक तरफ कांग्रेस नीरव मोदी को मुद्दा बना रही है तो छोटे नीरव मोदी को भुवनेश्वर सीट पर पार्टी प्रत्याशी बना कर खुद विपक्ष के निशाने पर आने के लिए तैयार है
बुद्धिजीवियों का एक बड़ा तबका इसका खुलकर विरोध करना शुरू कर दिया उनका मानना है कि उड़ीसा की राजधानी भुवनेश्वर शिक्षित शहर होने के बावजूद कई मामले के आरोपी मानस रंजन चौधरी को आखिर कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष निरंजन पटनायक ने भुवनेश्वर का नगर सभापति प्रभाव में आकर कैसे बनाया कांग्रेसियों का यह सवाल लाजमी है भुवनेश्वर भुवनेश्वर में संचालित बुद्धिजीवी मंच निगमानंद मंगराज और विज्ञान साहू लिली सामंत राय ने खुले तौर पर इसका विरोध किया है उन्होंने आरोप लगाया है कि
उड़ीसा प्रदेश अध्यक्ष के सहयोग व प्रभारी जितेंद्र सिंह को अंधेरे में रखकर मानस रंजन चौधरी आखिरकार अपना नाम स्क्रीनिंग कमिटी तक पहुंचाया है
ज्ञात हो की पूर्व में मानस रंजन चौधरी आईसीआईसी बैंक घोटाले में संलिप्त पाए गए हैं तथा पुलिस की फाइल में आज वह फरार भी है ऐसे में कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष निरंजन पटनायक ने आखिर किस आधार पर मानस रंजन चौधरी का नाम स्क्रीनिंग कमिटी के पास भेजा यह समझ से परे है कांग्रेस का एक बड़ा तबका इसका अंदर ही अंदर विरोध कर रहा है जिसका खामियाजा आने वाले दिन में प्रभारी जितेंद्र सिंह और प्रदेश कांग्रेस को भुगतना पड़ सकता है
वरिष्ठ कांग्रेसियों ने पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी के नाम लिखे पत्र में मानस रंजन चौधरी के काले कारनामों को चिन्हित करते हुए पार्टी को दलदल से उबारने का आग्रह किया है
पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी को लिखे पत्र में कांग्रेसियों ने यह भी दर्शाया है कि पूर्व में इनके ऊपर सीबीआई की जांच चली है और पुलिस के फाइल में यह फरार घोषित है अगर किसी भी संसदीय क्षेत्र से इसे टिकट दिया जाता है तो विपक्ष पूरे उड़ीसा में इसको मुद्दा बनाकर कांग्रेस को जमीन धरने का काम करेगी