Home / breaking news

Feb,28,2020 01:48:48

 भ्रमण पर निकले प्रभु श्रीराम, उमड़ी भक्तों की भीड़, शामिल हुए 10 हजार भक्तगण
Image
 भ्रमण पर निकले प्रभु श्रीराम, उमड़ी भक्तों की भीड़, शामिल हुए 10 हजार भक्तगण
■ प्राण-प्रतिष्ठा व श्रीराम कथा के पश्चात कल संध्याकाल में 11 हज़ार द्वीप प्रज्वलित की जाएगी।
■राम का जीवन चरित्र हमारे जीवन के लिए प्रेरणादायी: अतुल कृष्ण भारद्वाज जी महाराज
■श्रीराम कथा बुद्धि को शुद्ध करने की युक्ति: कथा व्यास
गुरुवार, जमशेदपुर: सूर्यमंदिर कमिटी सिदगोड़ा द्वारा आयोजित पांच दिवसीय श्रीराम दरबार प्रतिमा प्राण-प्रतिष्ठा कार्यक्रम के चौथे दिन गुरुवार को प्रतिमाओं को नगर भ्रमण पर निकाला गया। शोभा यात्रा श्रीराम मन्दिर से निकालकर बारीडीह-सिदगोड़ा मुख्य मार्ग के साथ, आस-पास के क्षेत्र, सिदगोड़ा बाजार के समीप मुख्य सड़क के रास्ते भ्रमण कराते हुए पुनः श्रीराम मंदिर लाया गया। नगर भ्रमण शोभायात्रा की शुरूआत राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री सह सूर्यमंदिर कमिटी के मुख्य संरक्षक रघुवर दास जी व यज्ञाचार्य श्री विजय गुरुजी महाराज जी द्वारा ध्वजा पूजन और नारियल फोड़ने के पश्चात हुई। शोभा यात्रा में सबसे आगे दो सुसज्जित घोड़े, उसके पीछे आचार्यों का दल, उसके पीछे धार्मिक धुन बजाता बैंड बाजा और फूल मालाओ से सुशोभित बड़े खुले वाहन पर विराजमान भगवान। एक रथ पर श्रीराम-सीता व लक्ष्मण की झांकी, दूसरे रथ पर कथा व्यास मानस मर्मज्ञ परम् पूज्य श्री अतुल कृष्ण भारद्वाज जी महाराज एवं तीसरे रथ पर यज्ञाचार्य श्री विजय प्रकाश गुरुजी महाराज जी विराजमान थे। शोभा यात्रा में एक वाहन पर डीजे सेट लगाई गई थी, जिसमें राम धुन पूरे क्षेत्र को भक्तिमय कर रहे थे, वहिं शोभा यात्रा में लोगों द्वारा पुष्प वर्षा की जा रही थी। शोभा यात्रा में शामिल पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास जी पुरोहितों के संग पदयात्रा करते हुए ‘जय श्री राम’ के नारे लगाते हुए श्रद्धालुओं का उत्साह बढ़ाते दिखे। शोभा यात्रा में जगह-जगह पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास का विभिन्न सामाजिक संगठनों ने फूल-मालाओं से स्वागत किया। पूरे नगर भ्रमण के दौरान युवा कार्यकर्ता व महिलाएं हाथों में ध्वज लिए संगीत व धुन पर थिरकते रहे। नगर भ्रमण के पूरे रास्तों पर श्रीराम ध्वज लगाया गया था।  नगर भ्रमण की जिम्मेदारी निभा रहे भाजपा जमशेदपुर महानगर अध्यक्ष दिनेश कुमार ने कहा कि इतनी विशाल व भव्य नगर भ्रमण जमशेदपुर के धार्मिक अनुष्ठानों में ऐतिहासिक व अविस्मरणीय है। उन्होंने बताया कि करीब 10 हजार से अधिक भक्तजन प्रभु श्रीराम के नगर भ्रमण में शामिल होकर गौरवान्वित व धन्य महसूस कर रहे हैं। लोगों के सहयोग व श्रद्धा ने कार्यक्रम को ऐतिहासिक बनाया। पूरे नगर भ्रमण के दौरान भक्तों का उत्साह व ‘जय श्री राम’ के उद्घोष से पूरा वातावरण भक्तिमय बना रहा।
शोभा यात्रा में पूर्व सीएम रघुवर दास, मानस सत्संग के जम्मू वाले बाबा, कमिटी के अध्यक्ष संजीव सिंह, भाजपा जमशेदपुर महानगर अध्यक्ष दिनेश कुमार, गुंजन यादव, अमरजीत सिंह राजा, पवन अग्रवाल, कमलेश सिंह, सुशांता पंडा, मान्तु बनर्जी, प्रोबिर चटर्जी राणा, रमेश नाग, संतोष ठाकुर, दीपक झा, ध्रुव मिश्रा, श्रीराम प्रसाद, पप्पू मिश्रा, अमिश अग्रवाल, कुमार अभिषेक, विकास शर्मा, प्रेम झा, बंटी अग्रवाल, शशि यादव, रंजीत सिंह समेत हजारों भक्तगण शामिल रहे।
वहीं, दैनिक प्रातःकालीन पूजन में: पंचकुंडीय महायज्ञ में यज्ञाचार्य श्री विजय प्रकाश गुरुजी महाराज जी द्वारा यजमानों के संग गौ पूजन, स्थापित देवताओं का पूजन, स्थापित देवताओं का हवन, प्रासाद दिशु होम, तत्त्व न्यास होम, मूर्ति लोकपल होम, शैया शैयाधीवास होम पूजन व आरती के पश्चात दिन की पूजन विधि पूर्ण हुई। महायज्ञ में पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास सपत्नीक, सपरिवार शामिल हुए व विभिन्न अनुष्ठानों को पूर्ण किया।
प्राण-प्रतिष्ठा के पश्चात कल शुक्रवार को संध्याकाल में 11 हज़ार द्वीप प्रज्वलित की जाएगी।
संगीतमय श्रीराम कथा: छठा दिन।
■ राम का जीवन चरित्र हमारे जीवन के लिए प्रेरणादायी: अतुल कृष्ण भारद्वाज जी महाराज
श्रीराम कथा बुद्धि को शुद्ध करने की युक्ति: कथा व्यास
गुरुवार, जमशेदपुर: संध्याकाल में संगीतमय श्रीराम कथा के छठे दिन के कथा प्रारंभ से पहले वैदिक मंत्रोच्चार के बीच राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री एवं मुख्य यजमान रघुवर दास व उनकी धर्मपत्नी रुक्मिणी देवी ने कथा व्यास पीठ एवं व्यास का विधिवत पूजन किया। पूजन पश्चात वृंदावन से पधारे कथा व्यास मानस मर्मज्ञ परम् पूज्य श्री अतुल कृष्ण भारद्वाज जी महाराज का स्वागत किया गया। छठे दिन के कथा में कथा व्यास मानस मर्मज्ञ परम् पूज्य श्री अतुल कृष्ण भारद्वाज जी महाराज ने प्रभु श्रीराम के जीवन चरित्र का वर्णन करते हुए कहा कि भगवान राम का जीवन चरित्र प्रेरणादायी है। भगवान ने अवतार धारण कर नर लीला के रूप में में जो धरती पर आदर्श स्थापित किये, यदि उसका अनुसरण कर जीवन में अपनाया जाए, तो वह अति कल्याणकारी सिद्ध होगा। कहा कि श्रीरामचरित मानस की प्रत्येक चौपाई ज्ञान वर्धक व प्रासंगिक है। रामायण का वाचन कर उसके मतानुसार यदि व्यक्ति आचरण करता है, तो उसकी सारी समस्याओं का समाधान होगा। रामायण में राम-लक्ष्मण, भरत, शत्रुघ्न, सीता का चरित्र सदैव प्रेरणादायी है। प्रभु श्रीराम साक्षात पूर्णब्रह्म परमात्मा होते हुए भी मित्रों के साथ मित्र जैसा, माता-पिता के साथ पुत्र जैसा, सीता जी के साथ पति जैसा, भाइयों के साथ भाई जैसा, सेवकों के साथ स्वामी जैसा, मुनि और ब्राह्मणों के साथ शिष्य जैसा, इसी प्रकार सबके साथ राम जी ने यथायोग्य त्यागयुक्त प्रेमपूर्ण व्यवहार किया है। अत: उनके प्रत्येक व्यवहार से हमें शिक्षा लेनी चाहिए। श्री रामचंद्र जी के राज्य का तो कहना ही क्या, उसकी तो संसार में एक कहावत हो गई है। जहां कहीं सबसे बढ़कर सुंदर शासन व खुशहाल प्रजा होती है, वहां ‘रामराज्य’ की उपमा दी जाती है। 22 फ़रवरी से प्रारंभ हुई संगीतमय श्रीराम कथा का शुक्रवार को समापन होगा।
श्रीराम कथा में राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री श्री रघुवर दास, पूर्व विधायिका मेनका सरदार, कमिटी के अध्यक्ष संजीव सिंह, भाजपा जमशेदपुर महानगर अध्यक्ष दिनेश कुमार, चंद्रशेखर मिश्रा, कमलेश सिंह, पवन अग्रवाल, गुंजन यादव, अमरजीत सिंह राजा, मिथिलेश सिंह यादव, खेमलाल चौधरी, भूपेंद्र सिंह, कुलवंत सिंह बंटी, राकेश सिंह, ज्योति अधिकारी, नीरु झा, सोनिया साहू, सरस्वती साहू, सीमा दास, ममता कपूर, रूबी झा, सन्तोष ठाकुर, प्रोबिर चटर्जी राणा, रमेश नाग, दीपक झा, पप्पू मिश्रा, ध्रुव मिश्रा, श्रीराम प्रसाद, बोलटू सरकार, कौस्तव रॉय समेत हजारों श्रद्धालु उपस्थित थे।
Latest Post