Home / मेहमान का पन्ना

Jun,14,2019 02:51:07

डॉ कल्याणी कबीर की कविता
Image

ये भी सच है कि कविताएँ रोटी नहीं देती

माना कि
कविता जीने का आधार नहीं है
हर किसी को मिल जाए वो पुरस्कार नहीं है ,
ये भी सच है कि कविताएँ रोटी नहीं देती ,
जहाँ बैठ सुस्ताए मन
वो ऊँची चोटी नहीं देती ,
पर इतना जरूर करती है
कि , एक ताप ज़िंदा रहे,
संघर्ष के समंदर में भी
आलाप ज़िंदा रहे !!
— Kalyani Kabir

Latest Post