Home / breaking news
कई कंपनियां चार आदमी का काम एक व्यक्ति से करा रही है:सरयू राय
Image

रांची : केंद्र और राज्य सरकार युवाओं के कौशल विकास के लिए काम कर रही है. लोगों को खुद भी कुशल बनने की कोशिश करनी चाहिए. सरकार संस्थाओं को फंड देती है, तो संस्थाओं का भी दायित्व है कि लोगों का अच्छे तरीके से कौशल विकास करें. वे किस तरह से कुशल हो रहे हैं, इस पर ध्यान देना चाहिए. जिस उद्देश्य से कौशल विकास कर रहे हैं, उसमें सफलता मिलनी चाहिए. कई कंपनियां अपना सारा काम आउटसोर्सिंग से करा रही हैं. स्थिति यह है कि कई कंपनियां चार आदमी का काम एक व्यक्ति से करा रही है.यह बातें खाद्य आपूर्ति मंत्री सरयू राय ने शुक्रवार को होटल बीएनआर चाणक्या में शुक्रवार को कहीं. वे एसोचैम के तत्वावधान में आयोजित सम्मिट कम अवार्ड ऑन स्किलिंग इंडिया कार्यक्रम में बोल रहे थे. उन्होंने कहा कि समाज में आर्थिक दरार चौड़ी होती जा रही है. इस खाई को पाटना होगा. सामाजिक स्थितियों का भी आकलन करना चाहिए.
शिक्षा और स्वास्थ्य नि:शुल्क कर देना चाहिए
नगर विकास मंत्री सीपी सिंह ने कहा कि जब तक मन में भाव पैदा नहीं होगा, तब तक विकास नहीं हो सकता है. बहुत संस्थाएं काम कर रही हैं, लेकिन रिजल्ट जीरो है. केवल सेमिनार और भाषण से काम नहीं चलेगा.प्रतिस्पर्द्धा का युग है. इसमें आगे आना होगा. कुछ करके दिखाना होगा. शिक्षा और स्वास्थ्य को नि:शुल्क कर देना चाहिए. कई सारी समस्याओं का समाधान हो जायेगा. हर व्यक्ति को काम सीखना अनिवार्य कर देना चाहिए. गांवों में स्थिति यह हो गयी है कि वहां मजदूर नहीं मिल रहे हैं. बड़े-बड़े संस्थानों से पढ़ कर निकलने वाले छात्रों को रोजगार कैसे मिले, इस पर विचार करना होगा. श्री सिंह ने कहा कि बड़ी-बड़ी कंपनियां रुचि नहीं ले रही हैं. केवल वह यह देखते हैं कि हमारी पूंजी बढ़ती रहे. सीएसआर भी मजबूरी में करते हैं. एक बड़ी कंपनी के साथ हेवी मोटर ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट के लिए सरकार ने समझौता किया था. आज चार साल हो गये, लेकिन अभी तक कुछ नहीं हुआ. वे रुचि नहीं ले रहे हैं.समाज में आर्थिक दरार चौड़ी होती जा रही है, खाई को पाटना होगा
सामाजिक स्थितियों का भी आकलन करना चाहिए
झारखंड स्किल डेवलपमेंट मिशन सोसाइटी के सीइओ अमर झा ने कहा कि कई परेशानियों के कारण राज्य के युवा बाहर नौकरी ज्वाइन नहीं कर रहे हैं या ज्वाइन करने के बाद लौट जाते हैं. अनजाने शहर में जाना-पहचाना नाम मिल सके, इसके लिए माइग्रेशन सपोर्ट सेंटर बनाया जा रहा है. दिल्ली-एनसीआर में सेंटर स्थापित करने के लिए वर्क ऑर्डर जारी कर दिया गया है. जो भी जरूरत होगी, उन्हें मदद की जायेगी.

Latest Post